Thursday, November 28, 2013

ग़ज़ल




लाख चाह कर भी पुकारा  जाता नही है 
वो  नाम अब  लबों पर     आता नही है 

इसे खुदगर्जी कहें या बेबसी का नाम दें 
चाहते हैं पर अना  से हारा जाता नही है 

दिल ख़्वाबों में भटकता एक बंजारा है 
कि जिसके हिस्से में सबात आता नही है  

छुप गया  वो चाँद अब आसमाँ के पीछे 
नूर ए अक्स मगर क्यूँ धुंधलाता नही है 

मुक्कमल दी हैं  हमने सजाएँ  दिल को 
कसूर मगर  इसका समझ आता नही है 

न तुम खफा रहो न किसी को रहने दो 
जो चला जाता है दुबारा आता नही है 

इस बात के एहसास और डर में मरते हैं 
 जिन्दा रहने का हुनर भी आता नही है  !!




~~ वंदना 



10 comments:

  1. बहुत सुंदर गजल.

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शनिवार (30-11-2013) "सहमा-सहमा हर इक चेहरा" “चर्चामंच : चर्चा अंक - 1447” पर होगी.
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है.

    ReplyDelete
  3. वाह.....
    छुप गया वो चाँद अब आसमाँ के पीछे
    नूर ए अक्स मगर क्यूँ धुंधलाता नही है

    बहुत बढ़िया ग़ज़ल....
    अनु

    ReplyDelete
  4. प्रिय ब्लागर
    आपको जानकर अति हर्ष होगा कि एक नये ब्लाग संकलक / रीडर का शुभारंभ किया गया है और उसमें आपका ब्लाग भी शामिल किया गया है । कृपया एक बार जांच लें कि आपका ब्लाग सही श्रेणी में है अथवा नही और यदि आपके एक से ज्यादा ब्लाग हैं तो अन्य ब्लाग्स के बारे में वेबसाइट पर जाकर सूचना दे सकते हैं

    welcome to Hindi blog reader

    ReplyDelete
  5. बहुत बढ़िया ग़ज़ल....

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर ग़ज़ल , सारे शेर एक से बढ़ कर एक

    ReplyDelete
  7. बहुत खूबसूरत ग़ज़ल...

    ReplyDelete
  8. bahut badhiya ... bahut khoob

    न तुम खफा रहो न किसी को रहने दो
    जो चला जाता है दुबारा आता नही है

    ye bahut khoob hain

    ReplyDelete
  9. सुंदर प्रस्तुति
    मेरे ब्लॉग पर भी आपका स्वागत है
    http://iwillrocknow.blogspot.in/

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर ग़ज़ल.... एक से बढ़ कर एक शेर

    ReplyDelete

गीत

नयन हँसें और दर्पण रोए  देख सखी वीराने में  पागलपन अब हार गया खुद को कुछ समझाने में  -- काली घटायें  घुट घुट जाएँ  खार...